Search
AQLI

Reports

Indonesia’s Air Pollution and its Impact on Life Expectancy

सितम्बर 2021

The average Indonesian can expect to lose 2.5 years of life expectancy at current pollution levels, according to the Air Quality Life Index (AQLI), because air quality fails to meet the World Health Organization (WHO) guideline for concentrations of fine particulate matter (PM2.5). The pollution index shows that the health impacts of particulate pollution are the greatest in Depok, Bandung, and Jakarta, where particulate pollution concentrations are the highest.

See Past Reports
Fact Sheets

इंडिया फैक्ट शीट

सितम्बर 2021

Reports

वार्षिक अपडेट

सितम्बर 2021

पिछले एक वर्ष में कोविड-19 लॉकडाउनों ने विश्व के सर्वाधिक प्रदूषित क्षेत्रों में नीला आसमान प्रस्तुत किया, जबकि जंगलों की आग ने जो सूखी और गर्म जलवायु के कारण उग्र हुई, हजारों किलोमीटर दूर के उन महानगरों में धूआं भर दिया जहां आसमान आमतौर पर साफ रहता है। ऐसी परस्पर विपरीत घटनाएं भविष्य के बारे में दो दृष्टिकोण प्रस्तुत करती हैं। भविष्य के उन रूपों का फर्क जीवाश्म ईंधन को घटाने की नीतियों में निहित हैं। एयर क्वालिटी लाइफ इंडेक्स (एक्यूएलआई) से प्राप्त नए आंकड़े नीतिगत कार्रवाई नहीं होने पर विश्व में स्वास्थ्यगत खतरे को रेखांकित करते हैं। जब तक वैश्विक कणीय (पार्टिकुलेट) वायु प्रदूषण को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डबल्यूएचओ) के दिशानिर्देशों तक घटा नहीं दिया जाता, औसत व्यक्ति की जीवन-प्रत्याशा में 2.2 वर्षों की कमी हो सकती है। विश्व के सर्वाधिक प्रदूषित क्षेत्रों के निवासियों की आयु में 5वर्षों से अधिक की कमी हो सकती है। मानव शरीर के भीतर अदृश्य रूप से सक्रिय कणीय(पार्टिकुलेट) प्रदूषण का जीवन-प्रत्याशा पर प्रभाव संक्रामक रोगों, जैसे– क्षय-रोग, एचआईवी/एड्स, अभ्यासगत रोगों- जैसे धूम्रपान तथा युद्ध आदि से भी अधिक होता है।

Fact Sheets

Nepal Fact Sheet

सितम्बर 2021

In 2019, Nepal’s average PM2.5 concentration was 61.2 μg/m³ – six times more than the permissible limit of 10 μg/m³ set by the World Health Organization (WHO), making Nepal the third most polluted country in the world. The Nepalese are on track to lose 5 years of life expectancy if these pollution levels persist. The highest concentrations were observed in Nepal’s southwestern districts which share their borders with the highly polluted Indo Gangetic Plain (IGP).

Fact Sheets

Pakistan Fact Sheet

सितम्बर 2021

Pakistan is today the world’s fourth most polluted country. Air pollution shortens the average Pakistani’s life expectancy by 3.9 years, relative to what it would have been if the World Health Organization (WHO) guideline was met. Some areas of Pakistan fare much worse than average, with air pollution shortening lives by almost 7 years in the most polluted regions.

See Past Reports
Fact Sheets

Bangladesh Fact Sheet

सितम्बर 2021

In 2019, at 65.5 μg/m³, Bangladesh recorded the second-highest average PM2.5 concentration in the world. Air pollution shortens the average Bangladeshi’s life expectancy by 5.4 years, relative to what it would have been if the World Health Organization (WHO) guideline was met. Some areas of Bangladesh fare much worse than average, with air pollution shortening lives by 6.5 years in the most polluted district.

See Past Reports
Fact Sheets

Central and West Africa Fact Sheet

सितम्बर 2021

In Central and West Africa1 , regions together comprised of 27 countries and 605 million people, the average person is exposed to particulate pollution levels that are double the World Health Organization’s (WHO) guideline. If these particulate pollution levels persist, average life expectancy in the regions would be 2.1 years lower, and a total of 1.2 billion person-years would be lost, relative to if air quality met the WHO standard.

See Past Reports
Fact Sheets

Europe Fact Sheet

सितम्बर 2021

Though most of Europe meets the European Union’s air pollution standard of 25 μg/m3, nearly three-quarters of the European population live in areas that do not meet the World Health Organization’s (WHO) stronger guideline of 10 μg/m3. The average European was exposed to a particulate pollution concentration of 12 μg/m3 in 2019. If particulate pollution were to meet the WHO guideline, average life expectancy across Europe would improve by 3 months. Life expectancy would improve more in Europe’s most polluted areas.

See Past Reports
Fact Sheets

United States Fact Sheet

सितम्बर 2021

Studying pollution in the United States tells largely a success story. Part of the United States once had levels of pollution like Beijing in recent years. Los Angeles had become known as the smog capital of the world and other large metropolitan areas weren’t far behind. Pollution had become a part of everyday life for many Americans, and citizens made clear that they wouldn’t tolerate it any longer. The Clean Air Act was enacted in 1970, and since that time particulate pollution has declined by 61 percent—extending the life expectancy of the average American by 1.4 years. Twenty-seven percent of those reductions have occurred over the last twenty years.

See Past Reports
Fact Sheets

Southeast Asia Fact Sheet

सितम्बर 2021

Eighty-nine percent of Southeast Asia’s 656 million people live in areas where particulate pollution exceeds the World Health Organization (WHO) guideline. This pollution cuts short the life expectancy of the average person by 1.7 years, relative to what it would be if the WHO guideline was met. That’s a total of 1.1 billion person-years lost to pollution in the 11 countries that make up this region.

See Past Reports
Fact Sheets

China Fact Sheet

सितम्बर 2021

For almost two decades, China remained one of the top five most polluted countries in the world. But after launching a successful “war against pollution” in 2014, China was able to reduce its particulate pollution by 29 percent—dropping the country from its top five ranking in recent years. If the reductions are sustained, China’s people can expect to live 1.5 years longer.

See Past Reports
Fact Sheets

इंडिया फैक्ट शीट

जुलाई 2020

भारत आज दुनिया का सर्वाधिक प्रदूषित देश है। वायु प्रदूषण के कारण भारतीय लोगों की औसत जीवन संभाव्यता विश्व स्वास्थ्य संघ (WHO) की गाइडलाइन के पालन की तुलना में 5.2 वर्ष और अपने राष्ट्रीय मानक के पालन की तुलना में 2.3 वर्ष घट जाती है। भारत के कुछ क्षेत्रों की स्थिति औसत से काफी खराब है और वायु प्रदूषण के कारण जीवन संभाव्यता राजधानी दिल्ली में 9.4 वर्ष और सबसे प्रदूषित राज्य उत्तर प्रदेश में 8.6 वर्ष घट जा रही है।

Reports

वार्षिक अपडेट

जुलाई 2020

वायु गुणवत्ता जनित जीवन सूचकांक (एक्यूएलआइ) के नए आंकड़ों से पता चलता है कि कोविड-19 के पहले वायु प्रदूषण मानव स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़ा जोखिम था और इसके एकमात्र उपाय – सशक्त तथा सतत लोक नीति – की अनुपस्थिति में यह कोविड-19 के बाद भी मानव स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़ा जोखिम बना रहेगा। लेकिन दुनिया के बड़े हिस्से ने वायु प्रदूषण की गंभीरता को पूरी तरह आत्मसात नहीं किया है जिसके कारण अरबों लोगों की जिंदगी छोटी और रुग्ण हो रही है।

Reports

Is China Winning its War on Pollution?

जुलाई 2020

For almost two decades, China remained one of the top five most polluted countries in the world. But after launching a successful “war against pollution” in 2014, China was able to reduce its particulate pollution by about 40 percent—dropping the country from its top five ranking in recent years. In fact, from 2013 to 2018, almost threequarters of the global reduction in particulate pollution came from China. If the reductions are sustained, China’s people can expect to live some 2 years longer. The Beijing- Tianjin-Hebei area, one of China’s most polluted areas in 2013, saw a 41 percent reduction in particulate pollution, translating to a gain of 3.4 years of life expectancy for its 108 million residents, if sustained.

Fact Sheets

Indonesia Fact Sheet

जुलाई 2020

Indonesia is today the world’s ninth most polluted country. Air pollution shortens the average Indonesian’s life expectancy by 2 years, relative to what it would have been if the World Health Organization (WHO) guideline was met. Some areas of Indonesia fare much worse than average, with air pollution shortening lives by more than 7 years in the most polluted region.

See Past Reports
Reports

South Korea Fact Sheet

नवम्बर 2019

South Korea ranked as the 13th most polluted country in the world in 2016, according to the Air Quality Life Index, which shows the average South Korean resident will live 1.4 years because air quality fails to meet the World Health Organization’s (WHO) guideline for fine particulate pollution.

Fact Sheets

उत्तरी भारत में वायु प्रदूषण से सम्बंधित तथ्य पत्रक

अक्टूबर 2019

1998 में ‘पार्टिकुलेट पाॅल्यूषन’ के निरंतर संपर्क में रहने से गंगा के मैदानी इलाकों के लोगों का जीवनकाल औसतन 3.7 वर्ष कम हुआ होता, अगर प्रदूषण की सघनता विष्व स्वास्थ्य संगठन के दिषानिर्देषों को पूरा करने के सापेक्ष रहती। वर्ष 2016 से इस क्षेत्र में प्रदूषण में 72 प्रतिषत की बढ़ोतरी ने लोगों की जीवन प्रत्याशा को 3.4 वर्ष से बढ़ा कर 7.1 वर्ष कम कर दिया, अगर एयर क्वालिटी विष्व स्वास्थ्य संगठन के तय मापदंडों को पूरा करने के सापेक्ष रही हो।

See Past Reports
Reports

Thailand Fact Sheet

मार्च 2019

Thailand is today the world’s seventh most polluted country. Air pollution shortens the average Thai’s life expectancy by more than two years, relative to what it would have been if the World Health Organization (WHO) guideline for long-term fine particulate matter (PM2.5) pollution was met. Some areas of Thailand fare much worse than average, with air pollution shortening lives by more than four years in the most polluted regions.

Reports

भारत की ‘प्रदूषण के खिलाफ जंग’: अधिक जीवनकाल के लिए अवसर

फ़रवरी 2019

वर्ष 2019 में भारत ने ‘प्रदूषण के खिलाफ जंग’ का ऐलान करते हुए अपने ‘राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम’ (National Clean Air Program-NCAP) की शुरूआत की, जो इस धरती पर मानव स्वास्थ्य के लिए संभवतः सबसे विशाल खतरे ‘प्रदूषित सूक्ष्म तत्व और धूलकण से पैदा होनेवाले वायु प्रदूषण’ यानी ‘पार्टिकुलेट एयर पॉल्यूशन’ (Particulate Air Pollution) के स्तर को कम करने की इच्छा का संकेत करता है। यह कार्यक्रम, जो राष्ट्रीय स्तर पर 20 से 30 प्रतिशत तक ‘पार्टिकुलेट पॉल्यूशन’ को कम करने का लक्ष्य रखता है, आगामी पांच वर्षों में लागू किया जाएगा। अगर यह कार्यक्रम अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में सफल रहा और प्रदूषण स्तर में कमी को बरकरार रखने में कामयाब रहा तो NCAP से प्रचुर लाभ होंगे, जिनमें से सर्वप्रमुख लाभ यह होगा कि एक भारतीय की ‘जीवन प्रत्याशा’ (Life Expectancy) में औसतन करीब 3.2 प्रतिशत की बढ़ोतरी होगी।

Reports

एयर क्वालिटी लाइफ इंडेक्स का परिचय

नवम्बर 2018

एयर क्वालि टी लाइफ इंडेक्स एक प्रदूषण सूचकांक है जो कणीय वायु प्रदूषण को अस्ति त्व में मौजूद संभवतः सबसे महत्वपूर्ण माप - जीवन प्रत्याशा पर प्रभाव - में बदल देता है। शिकागो विश्ववि द्यालय के अर्थ शास्त्र के मि ल्टन फ्रीडमैन प्रोफसर माइकल ग्रीनस्टो न और शिकागो विश्ववि द्यालय स्थित एनर्जी पॉलि सी इंस्टी ट्यूट (इपि क) की उनकी टीम द्वारा वि कसित एयर क्वालि टी लाइफ इंडेक्स का आरंभ हाल के एक शोध से हुआ है जिसमें मनुष्य पर वायु प्रदूषण के दीर्घकालि क एक्सपोजर और जीवन प्रत्याशा के बीच कार्य-कारण संबंध को मापा गया है। उसके बाद यह सूचकांक इस शोध को कणीय पदार्थों के अति-स्थानीयकृ त वैश्विक मापों से जोड़ता है जिससे पूरी दुनिया के समुदायों पर कणीय प्रदूषण की वास्तवि क कीमत के बारे में अप्रत्याश्ति समझ हासि ल होती है। सूचकांक इसे भी दर्शात ा है कि विश्व स्वा स्थ्य संगठन द्वारा सुरक्षित स्तर का एक्सपोजर माने जाने वाले गाइडलाइन, वायु गुणवत्ता के राष्ट्रीय मानकों, या उपयोगकर्ता द्वारा तय वायु गुणवत्ता के स्तर का पालन करने पर वायु प्रदूषण संबंधी नीतियों के कारण जीवन प्रत्याशा कै से बढ़ सकती है। इस जानकारी से स्थानीय समुदायों और नीति निर्मात ाओं को ठोस अर्थों में वायु प्रदूषण संबंधी नीतियों के महत्व के बारे में जानकारी पाने में मदद मि ल सकती है।

See Past Reports